सावित्री बाई फुले: स्त्री शिक्षा और अधिकारों की लड़ाई लड़ने वाली शिक्षिका

उन्हें विद्यालय जाते समय अंडो, कीचड़, टमाटर, पत्थर से मारा जाता था ताकि वह लड़कियों को…

कविता: पिता के लिए टीस बन जाती है तीस की बेटी

ड्रीम गर्ल: आर्टिफिशियल इमोशन का बाजार

भीड़ में हर आदमी अकेला है। उसका अकेला होना उसे अलग नहीं करता बल्कि उसके संबंधों…

हिंदी दिवस विशेष: अपने ही देश में हिंदी की स्थिति को देखकर दुख होता है

भावना मासीवाल जेंडर और स्त्री मुद्दों पर विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं और वेबसाइट्स के लिए लगातार लिखती हैं।…

शिक्षक दिवस: अब गुरु का नहीं, शिष्य का जमाना है

आज शिक्षक दिवस है। बचपन से ही इस दिन का अलग ही उत्साह रहता था। रंग…

भागना जरूरी होता है फिर वह प्रेम हो या सपना

लड़कियां घर से भागती हैं और सवालों के घेरे में हर दूसरी लड़की खड़ी कर दी…

ओह! मेरी नोआ आखिर तुमने ऐसा क्यों किया…?

प्यारी नोआ ये ख़त तुम्हारे और उन लड़कियों के नाम जो जीवन से हार कर मृत्यु…