ऐतिहासिक खत: हिटलर के नाम महात्मा गांधी की चिट्ठी

23 जुलाई 1939 को महात्मा गांधी ने हिटलर को एक संक्षिप्त खत लिखा। ख़त में गांधी…

फूलदई पर मैं बचपन से लौट आया- बुरांश और फ्योली आंखों से ओझल हो गई

मेरी टोकरी। मेरा भकार। दोनों ही छूट गया। बुरांश और फ्योली भी आंखों से ओझल हो…

मैं फुटपाथ हूं….मानव सभ्यता का.. प्रेम, हिंसा और परिवर्तनों का…

मैं फुटपाथ हूं…. उबड़-खाबड़। अनगिनत पैरों के नीचे। सड़कों के किनारे। बिल्डिंगों के नजदीक। महलों के…