कविता: पिता के लिए टीस बन जाती है तीस की बेटी

ख्याली पुलाव- वो तुम नहीं मेरी कहानी थी

‘इश्क पहले आंखों  में उतरता है फिर दिल में बस जाता है। आंखें प्यार का कैमरा…

ड्रीम गर्ल: आर्टिफिशियल इमोशन का बाजार

भीड़ में हर आदमी अकेला है। उसका अकेला होना उसे अलग नहीं करता बल्कि उसके संबंधों…

हिंदी दिवस विशेष: अपने ही देश में हिंदी की स्थिति को देखकर दुख होता है

भावना मासीवाल जेंडर और स्त्री मुद्दों पर विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं और वेबसाइट्स के लिए लगातार लिखती हैं।…

हिंदी दिवस विशेष: हिंदी को बाजार नहीं, ज्ञान की भाषा के रूप में देखें

प्रकाश उप्रेती दिल्ली यूनिवर्सिटी में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं और वेबसाइट्स पर समसामयिक मुद्दों पर…

शिक्षक दिवस: अब गुरु का नहीं, शिष्य का जमाना है

आज शिक्षक दिवस है। बचपन से ही इस दिन का अलग ही उत्साह रहता था। रंग…

शिक्षक दिवस 2019: उन गुमनाम गुरुओं के नाम जिन्होंने निस्वार्थ भाव से गले लगाया

प्रत्येक व्यक्ति के व्यक्तित्व निर्माण में शिक्षक की अहम भूमिका होती है। बचपन से लेकर जवानी…

अभिनेता-निर्देशक भूपेश जोशी को सफदर हाशमी पुरस्कार देने की घोषणा

मशहूर रंगकर्मी भूपेश जोशी को साल 2018 के सफदर हाशमी पुरस्कार दिए जाने की घोषणा हुई…

‘मुझे धूप में तपाने के लिए मेरे खेतों, मेरी कुदालों का शुक्रिया’

विहाग वैभव युवा कवि हैं। वाराणसी में रहते हैं। उन्हें भारत भूषण पुरस्कार- 2018 देने की…

‘पहाड़ के हाड़’: गिर्दा की स्मृति को सलाम!

आज हिमालै तुमुकै धत्यूं छौ जागो – जागो ओ मेरा लाल बरसों पहले पौड़ी के जिला…