पहला खत- मैं गुनगुनाता हूं, कोई राग थिरकता है मेरे भीतर

ख… प्रिय अंकिता। कैसी हो? कामना है खुश होगी अब तुम पंवार से रासुरी हो गई…